Find Your Free Essay Examples

NCERT Solutions for Class 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12

NCERT Solutions for Class 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12

Lencho’s house and crop

Lencho had his lonely house in the valley. It was situated on the top of a low hill. From there one could see the river and the fields. Lencho had a good crop. But it needed rains badly.

It starts raining

Lencho saw the sky in the north. It had rain clouds. His wife was preparing the dinner. He told her that God willing it would rain. Soon big drops of rain began to fall. Lencho went out to feel the rain on his body. He was very glad. He said that the drops of rain were new coins.

You can also download Class 10 Maths Solution to help you to revise complete syllabus and score more marks in your examinations.

Hailstorm and loss therefrom

But soon the hail rained on everywhere. The fields became white as if covered with salt. The crop was totally destroyed. Lencho became sad. He felt that they would go hungry that year. Also they would have no seeds for the next crop.

Lencho writes to God

But Lencho had a single hope : help from God. He was sure that no one dies of hunger. He had a great belief in God. The following Sunday he went to the post office. He wrote a letter to God to send him one hundred pesos. He wrote ‘God’ as the address.

Postmaster collects money for Lencho

An employee of the post office showed this letter to the postmaster. The postmaster laughed seeing the address. He wished to have such a faith in God. He had had an idea answer the letter. But reading it he found that the writer needed money. It was to keep the faith of the writer. So he asked all his friends and employees to give some money.

Money sent to Lencho

The postmaster could collect only seventy pesos this way put the money in an envelope and addressed it to Lencho. He wrote a single word on it ‘God’ as a signature.

Lencho receives the money

The following Sunday Lencho came to the post office. He asked if there was any letter for him. He was given that letter. Lencho did not show any surprise on seeing the money. He got angry when he counted the money. He felt that God could’not have made a mistake.

Lencho’s letter to God, calls post office employees crooks

Immediately Lencho wrote another letter to God. He put it into the mailbox. The postmaster opened it. Lencho had written in that letter that he had received only seventy pesos. But he had asked for one hundred pesos. He asked God to send him the rest. But God should not send it through the mail. It was because the post office employees were crooks.

लैंचो का घर और फसल

लैंचो का अकेला घर घाटी में था। यह एक नीची पहाड़ी की चोटी पर था। वहाँ से व्यक्ति नदी और खेतों को देख सकता था। लैंचो की अच्छी फसल थी। परन्तु इसे वर्षा की अत्यधिक आवश्यकता

वर्षा का आना

लैंचो ने आकाश को उत्तर दिशा में देखा। उस तरफ वर्षा के बादल थे। उसकी पत्नी शाम को खाना बना रही थी। उसने उसे बताया कि परमात्मा ने चाहा तो वर्षा होगी। शीघ्र ही वर्षा की बड़ी-बड़ी बूंदें गिरने लगीं। लैंचो वर्षा का अपने शरीर पर अनुभव करने के लिए बाहर गया। वह काफी खुश था। उसने कहा कि वर्षा की बूंदें नये सिक्के थे।

ओले और उनके कारण विनाश

परन्तु शीघ्र ही ओले हरेक स्थान पर गिरने लगे। खेत सफेद हो गये जैसे नमक से ढके हों। फसल पूर्ण रूप से नष्ट हो गई। लैंचों उदास हो गया। उसने महसूस किया कि उस वर्ष वे भूखे रहेंगे। उनके पास अगली फसल के लिए बीज भी नहीं होगा।

परमात्मा को लैंचो का पत्र

परन्तु लैंचो को अकेली एक आशा थी : परमात्मा से सहायता। उसे विश्वास था कि कोई भी भूख से नहीं मरता। उसे परमात्मा में बहुत विश्वास था। अगले रविवार वह डाकखाने गया। उसने परमात्मा को उसके पास सौ पीसो भेजने के लिए एक पत्र लिखा। उसने पते के रूप में ‘परमात्मा’ लिखा।

पोस्टमास्टर द्वारा लैंचो के लिये पैसे इकट्ठा करना

डाकखाने के एक कर्मचारी ने इस पत्र को पोस्टमास्टर को दिखाया। पोस्टमास्टर पते को देख कर हँसा। उसने इच्छा की कि अच्छा होता उसका भी परमात्मा में ऐसा ही विश्वास होता। उसके मन में एक विचार आया : पत्र का उत्तर दिया जाये। परन्तु उसे पढ़ने के बाद उसने पाया कि लेखक को पैसे चाहिएँ। यह लेखक का विश्वास रखने के लिए था। इसलिए उसने अपने सभी मित्रों और कर्मचारियों को कुछ (थोड़ा-थोड़ा) पैसा देने के लिए कहा।

लैंचो के पास पैसे भेजना

इस प्रकार पोस्टमास्टर सिर्फ सत्तर पीसो ही इकट्ठे कर सका। उसने पैसे को एक लिफाफे में डाला और उसके ऊपर लैंचो का पता लिख दिया। उसने हस्ताक्षर के रूप में इस पर सिर्फ एक शब्द ‘परमात्मा’ लिख दिया।

लैंचो द्वारा पैसों की प्राप्ति

अगले रविवार लैंचो डाकखाने आया। उसने पूछा कि उसके लिए क्या कोई पत्र है। उसे वह पत्र दिया गया। लैंचो ने पैसा देखकर कोई आश्चर्य नहीं दिखाया। जब उसने पैसे गिने तो उसे गुस्सा आया। उसने महसूस किया कि परमात्मा कोई गलती नहीं कर सकता था।

परमात्मा को लैंचो का पत्र-डाकखाने के कर्मचारियों को धोखेबाज कहना

तुरन्त ही लैंचों ने परमात्मा को दूसरा पत्र लिखा। उसने इसे लैटरबॉक्स में डाल दिया। पोस्टमास्टर ने इसे खोला। लैचों ने उस पत्र में लिखा था कि उसे केवल सत्तर पीसो मिल गए हैं। परन्तु उसने तो एक सौ पीसो के लिए कहा था। उसने परमात्मा को बाकी के पैसे उसके पास भेजने के लिए कहा। परन्तु परमात्मा को वे पैसे डाक द्वारा नहीं भेजने चाहिएँ। यह इसलिए था क्योंकि डाकखाने के कर्मचारी धोखेबाज हैं।